पैक्स का परिवर्तन सिद्धाँत

पैक्स का प्रकाशन 'वर्किंग विद सिविल सोसाइटि टू टैकल सोशल एक्सक्लूज़न - ए थियोरी ऑफ चेंज' दर्शाता है कि सामाजिक बहिष्कार किस तरह गरीबी से जुड़ा हुआ है।

PACS Working with civil society to tackle social<br />
exclusion - a theory of change publicationयह उस परिवर्तन प्रक्रिया की रूपरेखा बताता है, जो पैक्स कार्यक्रम, एक अधिक समावेशित प्रक्रिया कायम करने में नगर समाज संस्थाओं (सी.एस.ओ.) की भूमिका को बढ़ावा देर कर लाना चाहता है।

रिपोर्ट डाउनलोड करें

वर्किंग विद सिविल सोसाइटि टू टैकल सोशल एक्सक्लूज़न - ए थियोरी ऑफ चेंज - पी.डी.एफ. फॉर्मेट में पूरा प्रकाशन पढ़ें:

पूर्वावलोकनसंलग्नीआकार
परिवर्तन के सिद्धांत-1124बी-वेब के लिए.पीडीऍफ़863.24 KB

समाचार और विचार

Women with RSBY smartcards, Gumla Jharkhand
गुमला में आर.एस.बी.वाई के बारे में जागरूकता
DFID visit to MVM-Muzaffarpur, Bihar
मुसाहर समुदाय को भेदभाव का सामना करना पड़ता है
Group discussion in west bengal
पैक्स के साथ पश्चिम बंगाल के कार्यक्षेत्र का दौरा
Picture courtesy - Jansahas
पैक्स भेदभाव को समाप्त करने की दिशा में काम करता ह